IPO Application.

Below is an excerpt from an article from Money9 where Abhay Doshi, Founder- UnlistedArena.com lists out key things to watch for before applying/investing in an IPO-

(UnlistedArena.com) के फाउंडर अभय दोशी का कहना है कि कंपनियों द्वारा दाखिल किए DRHP (ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉसपेक्टस) और RHP कंपनी और इंडस्ट्री का एंसाक्लोपीडिया होता है. इससे आपको कंपनी के भविष्य की संभावनाओं के बारे में जानकारी मिलती है. दोशी के मुताबिक IPO पर दांव लगाने से पहले इन बातों का ख्याल रखना चाहिए-

1. आप निवेश क्यों कर रहे हैं ये उद्देश्य साफ हो. एक्सचेंज पर डेब्यू कर रही हर कंपनी आपको पोर्टफोलियो के लिए सही शेयर हो ये जरूरी नहीं. निवेश से पहले आपको साफ पता होना चाहिए कि आप लिस्टिंग पर होने वाली कमाई के लिए दांव लगा रहे हैं या लंबे समय के लिए निवेश कर रहे हैं. स्टॉक एक्सचेंज पर कंपनी की लिस्टिंग भले धमाकेदार हो लेकिन ये जरूरी नहीं कि वो मोमेंटम आगे भी जारी रहेगा.
 2. आपने अपना उद्देश्य तय कर लिया तो अब समझें कि कंपनी को पैसों की जरूरत क्यों है. शेयर बाजार से जुटाई रकम को कंपनी किस काम के लिए इस्तेमाल करेगी. क्या कंपनी अपना कर्ज चुकाने के लिए पैसा जुटा रही है या फंड का इस्तेमाल क्षमता विस्तार के लिए करेगी, या फिर मौजूदा निवेशकों को एक्जिट करने का मौका दे रही है.
 3. कंपनी का IPO किस वैल्यूएशन पर आ रहा है ये चेक करें. कंपनी जिस इंडस्ट्री और सेक्टर में काम करती है उस क्षेत्र की अन्य कंपनियों के वैल्यूएशन से उसकी तुलना करें. प्राइस टू अर्निंग्स रेश्यो (P/E) और कंपनी पर कितना कर्ज है (D/E) इस आधार पर आप तुलना कर सकते हैं.
 4. आपने अक्सर देखा होगा कि जिन IPOs में शेयर बाजार के दिग्गज जैसे राकेश झुनझुनवाला या राधाकिशन दमानी का नाम हो वे निवेशकों को ज्यादा आकर्षक लगते हैं. ऐसे निवेशकों के साथ ही आपको ये देखना जरूरी है कि कंपनी के प्रोमोटर का बैकग्राउंड कैसा है, कंपनी का और क्या-क्या बिजनेस है.
 5. अभय दोशी मानते हैं कि कई रिटेल निवेशक ग्रे मार्केट के रुझान देखकर अपने फैसले की दिशा तय करते हैं. उनके मुताबिक ग्रे मार्केट छोटी अवधि के रुझान तय करने में कामयाब हो सकता है लेकिन लंबी अवधि में प्रदर्शन कैसा होगा या कंपनी के फंडामेंटल कैसे हैं, इससे ग्रे मार्केट का कोई संबंध नहीं है.
 6. अभय मानते हैं कि IPO में आवेदन देने से पहले बाजार में सेंटिमेंट कैसे हैं और आगे कौन से बड़े इवेंट हैं जो बाजार की चाल को प्रभावित कर सकते हैं, इसपर गौर करना जरूरी है. बाजार का सेंटिमेंट या रुझान कैसा है, ये IPO के रिस्पॉन्स पर असर डाल सकता है.
 Link to the full article
 Disclaimer- The above piece should not be taken as any recommendation for investing/trading. The article is purely for educational purpose. Please consult your financial advisor before making any investments.

SHARE THIS POST